आयुर्वेदिक रूप मंत्रा की ब्रांड अम्बेसडर बनी ब्रांड अम्बेसडर बनीआयुर्वेदिक रूप मंत्रा की ब्रांड अम्बेसडर बनी डिंपल गर्ल प्रीति जि़ंटा ।
प्रसिद्ध अदाकारा प्रीति जि़ंटा एवं दिविसा हर्बल केयर के को-फाउंडर श्री संजीव जुनेजा प्रैस कांफ्रेस के दौरान।
[AdSense-A]
मुंबई। दिविसा हर्बल केयर के प्रसिद्ध आयुर्वेदिक प्रोडॅक्ट रूप मंत्रा आयुर्वेदिक फेस क्रीम के साथ अब बॉलीवुड की प्रसिद्ध अभिनेत्री प्रीति जि़ंटा का नाम जुड़ गया है। मुंबई के मड-आईलैंड के एक प्रसिद्ध बंगले में हुई प्रैस कांफे्रस में कंपनी के को-फाउंडर श्री संजीव जुनेजा ने बताया कि प्रीति जि़ंटा ब्यूटी एंड ब्रेन का राईट कॉम्बीनेशन हैं, जिनके पास रूप के साथ-साथ सक्सैस का मंत्रा भी है।
इस प्रैस कांफ्रेंस में देश के सभी बड़े अखबार एवं प्रसिद्ध एंटरटेनमेंट एवं न्यूज चैनल थे। लगभग २५ मिनट चली प्रैस कांफे्रस के दौरान प्रीति जि़ंटा बहुत खुश दिखी। उन्होंने प्रत्येक सवाल का जवाब अपने बबली अंदाज़ में दिया। उन्होंने प्रैस से यह जानकारी भी साझा की कि वह रूप मंत्रा आयुर्वेदिक फेस क्रीम को मिले नेशनल एवं इंटरनेशनल अवार्डस से काफी प्रभावित हुई और उन्होंने खुद भी इस प्रोडॅक्ट को यूज़ किया। उन्होंने मजबूती के साथ कहा कि आप भी यह प्रोडॅक्ट यूज़ करें तो खुद जान जाएंगे कि मैंने यह एंडोर्समेंट क्यूं साईन किया।
[AdSense-A]
इसके अलावा प्रीति जी ने आने वाले बज़ट में सरकार से महिलाओं के लिए खास छूट देने एवं साथ ही साथ फिल्मों में बढ़ती पायरेसी के खिलाफ सख्त कानून बनाने का सुझाव दिया। पत्रकारों ने जब उनसे उनकी सुंदर स्किन का राज़ पूछा, तो प्रीति जि़ंटा ने मुस्कुराकर कहा कि रूप मंत्रा ही है उनकी सुंदरता का मंत्रा। प्रीति जि़ंटा ने बताया कि रूप मंत्रा फेस क्रीम क्यूंकि आयुर्वेदिक है और इसमें कैमिकल नहीं है, इसलिए सभी को ऐसे प्रोडॅक्ट इस्तेमाल करने चाहिए। अपनी पर्सनल लाईफ से जुड़े सवालों को वो हस कर टाल गई।
[AdSense-A]
प्रैस कांफ्रेस के अंत में श्री संजीव जुनेजा ने कहा कि आज जिस शिखर पर रूप मंत्रा है, इसका श्रेय वे कंपनी के इंप्लाइज़, विक्रेताओं और खरीददारों को देते हैं। उन्होंने बताया कि वे प्रीति जि़ंटा के साथ फिल्म व प्रिंट दोनों शूट कंप्लीट कर चुके हैं और जल्द ही उनकी कंपनी इसको विज्ञापित करना शुरू करेगी।                                                                                                                               -विज्ञप्ति

About The Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

Close