कब्ज़ क्या है? (What Is Constipation)

भाग दौड़ भरी जिंदगी में असंतुलित खान-पान जैसे हमारी दिन चर्या सी बन गयी है और जब असंतुलित भोजन अपनी सीमा पार कर जाता है तो कब्ज़ (Constipation) का रूप ले लेता है। पेट ठीक से साफ़ ना होना और  मल त्यागने में तकलीफ होने को कब्ज़ कहते है। इसका उपचार उचित समय पर होना अनिवार्य है, नहीं तो यह समस्या एक गंभीर रूप भी ले सकती है। अनियमित और असंतुलित भोजन खाने से कब्ज़ होने का भय रहता है। भोजन में फाइबर की कम मात्रा के कारण भी कब्ज़ हो जाती है। जिस से हमारा डाइजेस्टिव सिस्टम कमजोर होने लगता है और हमें भूख ना लगना , एसिडिटी, गैस यहाँ तक की बवासीर जैसी बीमारी होने का भी खतरा रहता है। पेट का फूला रहना, मल अच्छे से ना त्याग पाना, भूख का कम हो जाना, कब्ज़ के मुख्य लक्षण है।कब्ज़ को शुरुआत से ही रोकने के लिए हमें अपना खान-पान नियमित रखना चाहिए और ऐसे भोजन को अपनाना चाहिए जिसमें फाइबर की उचित मात्रा हो। कब्ज़ से बचने के कई घरेलु उपचार है, जो कि नीचे लिखे गए है।

कब्ज़ के घरेलू  उपचार (Home Remedies for Constipation)

ayurvedic-home-remedies-for-constipation

1. मुनक्का (Crown):

मुनक्का कब्ज़ में बहुत ही लाभदायक असर दिखाता है। सुबह खाली पेट मुनक्का और काजू को एक साथ खाने या रात को सोते समय मुनक्के का सेवन करने से कब्ज़ की समस्या को दूर किया जा सकता है।

2. त्रिफला (Triphala):

त्रिफला तीन महत्वपूर्ण औषधियों के मिश्रण को कहा जाता है जिसमें हरड़ , बहेड़ा और आंवला शामिल है। इन तीन औषधियों की बराबर मात्रा से त्रिफला तैयार होताहै ।  त्रिफला भी कब्ज़ दूर करने में मददगार है। एक लीटर पानी में दो से तीन चम्मच त्रिफला चूर्ण को रात को भिगो कर रख दे और सुबह उठ कर पानी को छान कर पी लें। कुछ ही दिनों में कब्ज़ से आराम मिलने लगेगा ।

3. अजवाइन (Celery):

अजवाइन भी कब्ज़ से राहत पहुंचाने में सहायक है। एक चम्मच अजवाइन को एक चम्मच त्रिफला और सेंधा नमक में मिला कर चूर्ण बना लें और सुबह इसे गरम पानी के साथ लेने से कब्ज़ में फायदा होगा।

4. इसबगोल (Isabgol):

इसबगोल भी कब्ज़ में बहुत असरदार होता है। इसबगोल बहुत आसानी से बाजार में मिल जाता है। इसे हम रात को सोते समय गुन-गुने दूध या पानी के साथ भी ले सकते है।

5. रेचक औषधि (पेट सफा) Laxative Powder (Pet Saffa):

पेट सफा (Pet Saffa) प्राकृतिक लैक्सेटिव ग्रैन्यूल्स 100% आयुर्वेदिक सूत्री करण द्वारा तैयार की गयी एक औषधि है जो कब्ज से राहत दिलवाने में मदद करती है। पेट सफा में सेना, काला नमक, अजवाइन, ईसबगोल, त्रिफला, आंवला, सेंधानमक, सर्जीकक्षारा, हरड़, अमलतास, सौंफसोंठ, निसोंठ, जीरा और अरंडी के तेल जैसी सहायक जड़ी बूटियां है। इसे वैज्ञानिक रूप में प्राचीन पद्धति से तैयार किया गया है जोकि मल त्याग को नियमित रूप से बनाए रखता है। इसका मुख्य उद्देश्य कब्ज को दूर करना और यह पेट की अन्य बीमारियां जैसे- जकड़न, गैस, बदहजमी दूर करने में मदद करता है। एक से दो चम्मच चूर्ण (5-10 ग्राम) एक गिलास गुनगुने पानी के साथ (लगभग 200 मि.लीटर) रात को सोते समय आवश्यकता  अनुसार अपने चिकित्सक के परामर्श अनुसार लें ।

Pet-Saffa-Constipation-Churna-Powder

 

About The Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

Close